Saturday, January 28, 2017

Beti ki chah | Part2

नये पाठक पिछला अंक पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे!
अब आगे
क्या मतलबमै समझी नही ''यारमतलब सीधा सा हैऑपरेशन कराने का आइडिया फिलहाल कैंसिलएक बार और कोशिश करते हैं शायद हमारी इच्छा पूरी हो जाएकहते हुए दीपक ने मुझे बाहों मे भर लियामाँ ने शर्मा कर मुँह फेर लिया और पूछ बैठी, “अगर अब की बार भी बेटा हुआ तो?”
जैसे  अल्ट्रासाउंड करा कर लोग लड़की का गर्भपात करा देते हैं , हम लड़के का गर्भपात करा देंगे, “ क्या गर्भ मे लड़का हुआ तो गर्भपात करा दोगे ? “ क्यूँ इसमे इतना आश्चर्य करने की क्या बात है ? गर्भ मे लड़की होने पर लोग गर्भपात कराते ही हैं क्यूंकी उन्हे लड़का चाहिएहमे लड़की चाहिएइसलिए अगर गर्भ मे लड़का हुआ तो हम गर्भपात करा देंगेलोग सुनेगे तो क्या कहेंगे ? “कहने दो क्या फ़र्क पड़ता हैबच्चे हमे पालने हैइसलिए हम यह तय करेंगे की हमे लड़का चाहिए या लड़की,  दूसरे कौन होते हैं इस मामले मे दखल देने वाले ? दीपक के इस तर्क के आगे मैं निरुत्तर हो गई थीतभी दीपक ने मुझे पकड़ कर बिस्तर पर लिटा कर बत्ती बुझा दी और मेरे अधरो पर अपने अधरो को रखते हुए फुसफुसाएअच्छे काम मे देर नही करनी चाहिएजितनी जल्दी हो वही अच्छादिनसप्ताह और महीने इसी तरह बीतने लगे,उस घटना के लगभग 6 माह बाद मेरे पीरीएड्स बंद हो गये, मैने जब दीपक को यह बात बताई तो वो मुस्कुराते हुए बोले, “इस का मतलब हमारी मेहनत का फल हमे मिलने वाला हैफल लेने से पहले बहुत कुछ करना पड़ता हैपहले तैयारी करो अस्पताल चल कर चेकअप कराने  की- "हाँ-हाँ क्यू नही"

अगले ही दिन हम अस्पताल गयेवहाँ चेकअप करने के बाद डॉक्टर ने बताया की अभी गर्भ मात्र 4 माह का है और सब कुछ ठीक-ठाक हैअभी अल्ट्रासाउंड कर गर्भ के लिंग का पता नही चल सकताहम दोनो खुशी-खुशी घर लौट आएहमारी मनोकामना जो पूरी होने वाली थीमम्मीजी को यह समझते देर  लगी की क्या बात हैउन्होने मुझ से बस , इतना ही पूछासब ठीक ठाक तो है हाँ मम्मीजी सब ठीक हैमेरे इस जवाब से वो संतुष्ट हो गई थी अब मम्मीजी पहले से भी ज़्यादा ख़याल रखने  लगी थीयह खा लोवो खा लोयह मत करोवो मत करोहर दम लगाए रहतीकभीकभी तो मुझे उनकी इन बातों पर हँसी  जाती और मै कह उठती, “अरे मम्मीजीमै पहली बार तो माँ बन नही रही हूँपहले भी 2 बेटे पैदा कर चुकी हूँहाँ-हाँ मुझे पता है पर यह मत भूल की बच्चे को जन्म देने मे हर बार माँ का नया जन्म होता है और तुझे कुछ हो गया तो मेरा बेटा तेरे गम मे जीते जी मर जाएगाफिर मेरा क्या होगा ? यह कह कर मम्मीजी हंस पड़ती और मै भी अपनी हँसी रोक  पातीइसी तरह समय हँसी खुशी बीतता रहा और अंत मे वो घड़ी  ही गई  जब मेरे गर्भ मे पल रहे भ्रूण का लिंग का पता चलना था मै और दीपक दोनो यही चाहते थे की लड़की ही होक्यूंकी मुझे यह पता था की अगर लड़का हुआ तो दीपक गर्भपात कराने से नही मानेगे  और यही कहेंगे  की शायद अगली बार लड़की होमैं अब इस गर्भ धारड़ के मे नही पड़ना चाहतीउस दिन हम सुबह सुबह ही नहाधोकर नाश्ता कर धड़कते दिल से नर्सिंग होम पहुँच बच्चों को जितना अपना परिच्छा परिणाम जानने की उत्सुकता होती है उससे कहीं ज़्यादा हम उत्सुक थे हम इतने अधीर थे की हमे लगता था की कितनी जल्दी कोई आए और हमे यह बताए की आप लड़की की माँ बनने वाली हैं,लेकिन होता सब कुछ समय से ही है ! नर्सिंग होम मे डॉक्टर के आने के बाद लगभग डेढ़-घंटे का समय अल्ट्रासाउंड मे ही लग गया ! इसके बाद हमे कमरे से बाहर जाने को कहा गया की बाहर चल कर बैठिएथोड़ी देर मे आप लोगों को बता दिया जाएगाहमारे लिए एक-एक पल बिताना भारी पड़ रहा था पर कर ही क्या सकते थेथोड़ी देर मे एक नर्स मुस्कुराती हुई कमरे से निकली और हमारे पास आकर बोलीबधाई हो मिदीपक एंड मिसेज़ दीपकआप लोग बेटे के माँ बाप बनने वाले हैं ! लाइए मेरी बखशीशयह खबर सुनकर एक ही झटके मे हमारे सपनो का महल चूर हो गया था दीपक तो सिर पकड़ कर वही बैठ गये!
क्रमशः